Friday, 20 March 2020

Maaa ki mamta



ज़िन्दगी उठने और माँ के चेहरे से प्यार करने के साथ शुरू हुई !!
Maaa ki mamta

इंसान वो है जो उसे उसकी माँ ने बनाया है !!


एक महिला समान रूप से पत्नी और माँ के रूप में बलिदान करती है !!

कुछ ऐसा काम करो कि आपके माता-पिता अपनी प्रार्थना में कहें । “हे प्रभु, हमें हर जन्म में ऐसी ही संतान देना ।



माँ ! मैं सब कुछ भूल सकता हूँ… तुम्हे नहीं ।


हजार के नोटों से तो बस अब जरूरत पूरी होती है... मजा तो " माँ " से मांगे एक रूपये के सिक्के में था।



प्यार का दूसरा नाम माँ है ! क्या लिखूँ ,, जिसकी कद्र जमाना करे...!! ये सोच आज "माँ" लिख दिया ...!! ‪#‎love‬ You ‪#‎Maa‬ !!!

Maaa ka pyar

क्या मंदिर, क्या मस्जिद, क्या गंगा की धार करे.. वो घर ही मंदिर जैसा है जिसमे औलाद माँ बाप का सत्कार करे.


माँ के हाथो में जादू है किस्मत सँवारने का फिर वो हाथ चाहे सिर पर फिरे या फिर गालो पर !!!


पता नहीं क्या जादू है माँ के पैरों में ।। जितना झुकता हूँ , उतना ही ऊपर जाता हूँ !!


न अपनों से खुलता है, न ही गैरों से खुलता है. ये जन्नत का दरवाज़ा है, माँ के पैरो से खुलता है.!!


माँ के पैर मेरा मंदिर :)


भगवान न दिखाई देने वाले माता-पिता है, और माता-पिता दिखाई देने वाले भगवान है !


वो माता-पिता ही हैं, जिनसे आपने मुस्कुराना सीखा !


जो बच्चा छोड़ आता है माँ के दामन का चमन जिंदगी उसके लिए फिर वीरान रहती है !


जब सिर्फ " हूँ " , "हां " करता था तू , तो- मै -तेरी हर बात समझ लेती थी... . . आज जब बड़ा हो गया तो कहता है, .."माँ तू कुछ नहीं समझती है"


माँ की दुआओं मे जन्नत है माँ के आँचल मे स्वर्ग है जिसकी ऊँगली पकड़ तू चला तू आज इतना सक्षम हो गया कि तुझे आज वो बोझ लगी"  !!


मेरी दुनिया में इतनी जो शौहरत है मेरी माँ की बदौलत है .. ऐ मेरे भगवान और क्या देगा तु मुझे मेरी माँ ही मेरी सबसे बड़ी दौलत है !!!


उनका कंधा खुदा ने ना जाने कितना मज़बूत बनाया है, हमारी ख्वाहिशों को उठाते हुए माँ बाप ने कभी उफ़ तक...करते !!


किसी ने व्रत रखा और किसी ने उपवास रखा, हमने वो पुण्य नहीं कमाये, बस माँ बाप को अपने पास रखा!!


नाम बहुत है, मतलब वही एक है. कोई "राम" बुलाता है, कोई "अल्लाह" तो कोई "माँ !!


बचपन में जब चलते-2 गिर जाता था तो माँ कहती थी चुप हो जा बेटा देख चींटी दब के मर गई अब मैं जब भी गिरता हु तो ज़मीर दबा नज़र आता है चींटी नहीं !!!


मां जब भी दुआएं मेरे नाम करती है .... रास्ते की ठोकरें मुझे सलाम करती हैं !!!


बच्चे का स्कूल बस पर चढ़ना...किचेन से टिफ़िन लेकर बस की तरफ भागती माँ...इबादत इससे भी बड़ी होती है क्या !!


ईश्वर जरुर माँ जैसे दिखते होंगे ।


माता-पिता से प्रेम करते हैं तो पर्यावरण से भी कीजिये।


ईश्वर के बाद तुम ही पहली देवीय शक्ति हो माँ !

Maaa ka dular मुझे किसी और जन्नत का नहीं पता, क्योंकि हम माँ के कदमों को ही जन्नत कहते हैं।


माँ ! मैं भी तुम्हारे जैसा अच्छा और सच्चा बनूँगा ! मैं वादा करता हूँ !


ईश्वर का सबसे अनमोल तोहफा – मेरे मम्मी पापा :)


माँ, भले ही पढ़ी-लिखी हो या नहीं, पर संसार का दुर्लभ व महत्वपूर्ण ज्ञान हमें माँ से ही प्राप्त होता है।


भुला के नींद अपनी सुलाया हमको, गिरा के आँसू अपने हँसाया हमको, दर्द कभी न देना उन हस्तियों को, खुदा ने माँ-बाप बनाया जिनको।


सब कुछ मिल जाता है, लेकिन माँ नहीं मिलती ।


हर इंसान अपनी चाहत को चाहता है, पत्नी को प्यार करता है, लेकिन माँ को पूजता है !


जब एक रोटी के चार टुकड़े हों और खाने वाले पाँच.. तब मुझे भूख नहीं है ऐसा कहने वाली इंसान है – माँ !


नफरत है मुझे हर उस इंसान से जो छोटी छोटी बात में अपनी माँ की कसम खा कर उसे दांव पे लगा देते हैं।


हम कभी भी किसी को भी बेफकूफ बना सकते हैं, लेकिन माँ को ?…….हा हा हा ! कभी नहीं :)


माँ ! तुम्हारे आँचल में वक़्त भी ठहर जाता है !


माँ का दिल प्यार का ताना बाना है । नहीं… शायद वो प्यार का एक समंदर है…! नहीं… वो उससे भी कहीं बढ़कर है ! है ना ?


माँ को वो भी पता होता जो हम उनसे share नहीं करते !
 ईश्वर का दूसरा नाम माँ होता है ! सहमत हैं आप ?

Maaa ka prem प्रेम से जो देती है वो बहन है, लड़ झगड़ के जो देता है वो भाई है, पूछ कर जो देता है वो पिता है, बिना मांगे जो सब कुछ दे दे, वो माँ है।


माँ का प्यार एक सफ़ेद रोशनी है, जिसमे बच्चों की किलकारियां एक संगीत बनकर गूंजती है !


वो सबसे अच्छा उपहार जो ईश्वर ने मुझे दिया है, मैं उसे 'माँ' कहता हूँ :)


माँ बाप का दिल जीत लो कामयाब हो जाओगे। वरना सारी दुनिया जीत कर भी हार जाओगे !


एक अच्छी माँ हजारों अध्यापकों के बराबर है !


माँ के आँचल से अनमोल कुछ नहीं !


माँ बस बड़ी लड़कियां हैं, जो अपने बच्चों के लिए जीती हैं :)


माँ हमारी पहली टीचर होती है और दोस्त भी !


ईश्वर हर जगह नहीं हो सकते इसलिए उन्होंने माँ को बनाया !


कहते हैं की पहला प्यार कभी भुलाया नहीं जाता, फिर पता नहीं लोग अपने माँ बाप का प्यार क्यूँ भूल जाते हैं !


इस दुनिया में बिना स्वार्थ के सिर्फ माता पिता ही प्यार कर सकते हैं !


हमारा जन्मदिन हमारे जीवन का इकलौता दिन होगा, जिस दिन हमारे रोने पर भी हमारी माँ मुस्कुरायी होगी !


क्या आप कभी माँ से कहते हैं – “माँ ! कैसी हो ?” इतना सुनने से ही माँ को सब कुछ मिल जाता है.. है ना ?


संगीत और माँ से बेहतर कोई दोस्त नहीं हो सकता !


भगवान् सभी जगह नहीं हो सकते इसलिए उसने माएं बनायीं !!


मैं जो कुछ भी हूँ या होने की आशा रखता हूँ उसका श्रेय मेरी माँ को जाता है !!


मातृत्व : सारा प्रेम वहीँ से आरम्भ और अंत होता है !!!


मुझे एक ऐसी माँ के साथ बड़े होने का मौका मिला जिसने मुझे खुद में यकीन करना सिखाया !!


यकीनन मेरी माँ मेरी चट्टान है .


मातृत्व …कठिन है ….और लाभप्रद भी !!


Maaa hi sab kuch


No comments:

Post a comment